Monday , May 10 2021
हिंदी

फसलों का त्योहार: 5th Class CBSE Hindi Chapter 02

प्रश्न: “खिचड़ी में अइसन जाड़ा हम पहिले कब्बो ना देखनीं।” यहाँ तुम “खिचड़ी” से क्या मतलब निकाल रही हो?

उत्तर: यहाँ ‘खिचड़ी’ एक त्योहार का नाम है जो जनवरी माह में आता है जैसे मकर संक्रांति, पोंगल, लोहड़ी आदि।

प्रश्न: क्या कभी ऐसा हो सकता है कि सूरज बिल्कुल ही न निकले? अगर ऐसा हो तो
……………………………….
……………………………….
……………………………….
………………………………. अपने साथियों के साथ बातचीत करके लिखो।

उत्तर: अगर ऐसा हो तो चारों ओर अन्धेरा रहेगा, सूरज से मिलने वाली गर्मी और शक्ति नहीं मिलेगी। इससे खनिज तत्व भी नहीं मिलेंगे। पेड़-पौधे मुरझाने लगेंगे।

प्रश्न: बाहर देखने से समय का अंदाज़ क्यों नहीं हो पा रहा था? जिनके पास घड़ी नहीं होती वे समय का अनुमान किस तरह से लगाते हैं?

उत्तर: चारों तरफ कोहरा होने के कारण समय का अंदाज़ा नहीं हो पा रहा था। सर्दियों में कोहरे के कारण सूरज दिखाई नहीं देता है। लोग सूर्य की स्थिति से समय का अंदाज़ा लगाते हैं। जिनके पास घड़ी नहीं होती है, वे समय का अनुमान सूरज की चढ़ती, बढ़ती, उतरती स्थिति से लगाते हैं। रात के समय का अन्दाज़ा भी पहर के अनुसार करते हैं।

प्रश्न: (1) “आज ई लोग के उठे के नईखे का”?
(2) “जा भाग के देख केरा के पत्ता आइल की ना?” इन वाक्यों को अपने घर की भाषा में लिखो।

उत्तर:

  1. आज इन लोगों को उठना नहीं है क्या?
  2. जल्दी जा कर देखो कि केले के पत्ते आए या नहीं।

(नोट: बच्चे अपने माता-पिता की सहायता से इन्हें अपनी भाषा में भी लिख सकते हैं।)

प्रश्न: विविधता हमारे देश की पहचान है। फ़सलों का त्योहार हमारे देश के विविध रंग-रूपों का एक उदाहरण है। नीचे विविधता के कुछ और उदाहरण दिए गए हैं। पाँच-पाँच बच्चों का समूह एक-एक उदाहरण ले और उस पर जानकारी इकट्ठी करे। (जानकारी चित्र, फ़ोटोग्राफ़, कहानी, कविता, सूचनापरक सामग्री के रूप में हो सकती है।) हर समूह इस जानकारी को कक्षा में प्रस्तुत करे।
(1) भाषा, (2) कपड़े, (3) नया वर्ष, (4) भोजन, (5) लोक कला, (6) लोक संगीत

उत्तर:

  1. भाषा: भारत में अनेक भाषाएँ बोली जाती हैं। जैसे- गुजराती, मराठी, बंगाली, गढ़वाली, तमिल, कन्नड़, पंजाबी, उड़िया, तेलुगु, नेपाली, असमिया, सिंधी, मलयालम, हिन्दी इत्यादि।
  2. कपड़े: हर प्रांत के परिधानों में मुख्यतर साड़ी, सूट, लंहगा (विवाह अवसर पर पहने जाना वाला परिधान) ही स्त्रियों द्वारा पहना जाता है। पुरुषों  में धोती, कुर्ता, लूंगी, पज़ामा पहना जाता है।
  3. नया वर्ष: अलग-अलग जगहों पर नया वर्ष मनाने का तरीका अलग-अलग होता है। जैसे- बैशाखी (पंजाब), उदागी (आंध्र प्रदेश), विशु (केरल/तमिलनाडु), गुड़ी पड़वा (महाराष्ट्र)।
  4. भोजन: अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग प्रकार के भोजन मिलते हैं। जैसे- 1. छोले-भठूरे, राजमा, मक्के की रोटी व सरसों का साग (पंजाब) 2. डोसा, इडली, सांभर (दक्षिण भारत) 3. खाखरा, भाखरवाड़ी, ढोकला, थेपला (गुजरात) 4. रोगन जोश, रीसता, दम आलू, वाज़वान (कश्मीर) 5.  माछ-भात, शुक्तो, मिष्ठी दोई (बंगाल) 6. दाल-बाठी, चूरमा, गट्टे की सब्ज़ी (राजस्थान)
  5. लोक कला: प्रत्येक प्रान्त की लोककला वहाँ की संस्कृति का परिचय देती है। जैसे- मधुबनी(बिहार), चित्तर (दक्षिण भारत), तंजावुर (तमिलनाडु), थंगक (तिब्बत), पातचित्र (उड़ीसा), पिछवई तथा फड़ (राजस्थान), बाटिक (दक्षिण भारत तथा बंगाल)।
  6. लोक संगीत: अलग भाषा और संस्कृति होने से लोक संगीत भी अलग होता है। भारत के लोक संगीत में अलग प्रांतों की लोकगीतों की व्यापक परंपरा चली आ रही है। सारंग, दुर्गा, सोरठ, पीलू इत्यादि राग लोक संगीत का मुख्य हिस्सा है। 1. कजरी, सावन, चैता (बनारस, मिर्ज़ापुर, उत्तर प्रदेश तथा पूरबी और बिहार के पश्चिम ज़िले) 2. सोहनी-महीवाल, हीर-राँझा (पंजाब) 3. ढोला-मारू (राजस्थान) 4. बिदेसिया (बिहार) 5. आल्हा (बुंदेलखंडी) 6. गरबा (गुजरात) 7. रसिया (ब्रज)

(नोटः विद्यार्थी इस प्रश्न का उत्तर अपने मित्रों के साथ मिलकर करें।)

Check Also

5th class NCERT Hindi Book Rimjhim

बिशन की दिलेरी 5th NCERT CBSE Hindi Book Rimjhim Ch 15

बिशन की दिलेरी 5th Class NCERT CBSE Hindi Book Rimjhim Chapter 15 प्रश्न: इन वाक्यों को अपने …