Friday , May 25 2018
Home / Unseen Passages / अपठित गद्यांश और पद्यांश Hindi Unseen Passages – II
Unseen Passages

अपठित गद्यांश और पद्यांश Hindi Unseen Passages – II

निम्नलिखित पद्यांश को पढकर प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

देश हमें देता सब कुछ, हम भी तो कुछ देना सीखें,
सूरज हमें रोशनी देता, हवा नया जीवन देती है,
भूख मिटाने को हम सब को, धरती पर होती खेती है,
औरों का भी हित हो जिसमें, हम ऐसा कुछ करना सीखें,
पथिकों को जलती गरमी में, पेड़ सदा देते हैं छाया,
खुशबू भरे फूल देते हैं हमको, नव फूलों की माला,
त्यागी तरुवारों के जीवन से, हम भी तो कुछ जीना सीखें।

प्रश्न (क) प्रकृति से हमें क्या नहीं मिलता है?

  1. सीख
  2. प्रेरणा
  3. परोपकार
  4. लालच

प्रश्न (ख) हम किससे क्या देना सीख सकते हैं?

प्रश्न (ग) पद्यांश में से दो संज्ञा शब्द ढूँढ़कर लिखिए।

प्रश्न (घ) ‘पथिक’ का पर्यायवाची लिखिए।

प्रश्न (ड़) प्रकृति का हर रूप कोई न कोई शिक्षा देता है। आप उसके किस रूप से कौन सी शिक्षा लेंगे तथा क्यों?

(मूल्यपरक प्रश्न)

उद्देश्य: छात्रों को पाठन व लेखन कौशल का अभ्यास करवाना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *