Sunday , September 15 2019
Home / Tag Archives: Hindi Essays in Easy Language (page 6)

Tag Archives: Hindi Essays in Easy Language

भारत में लोकतंत्र की सफलता और सार्थकता पर निबंध

Democracy

भारत में लोकतंत्र पर निबंध संसार के विभन्न देशों में शासन करने की, अनेक प्रणालियाँ हैं, शासन-तंत्र के अनेक स्वरूप हैं जैसे जनतंत्र, एकेतंत्र या तानाशाही, साम्यवादी समाजतंत्र, प्रजातंत्र आदि। इन पद्दतियों में सब से अधिक अपनायी जानेवाली तथा जनहितकारी शासन-पद्धति प्रजातंत्र मानी गयी है। इसके अन्य नाम हैं लोकतंत्र, …

Read More »

जन्माष्टमी पर निबंध विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

जन्माष्टमी पर निबंध Hindi Essay on Janmashtami

जन्माष्टमी निबंध [1] सभी जातियां अपने महापुरुषों का जन्म दिवस (जन्माष्टमी) बड़ी धूमधाम से मनाती आई हैं। हिन्दुओं के महापुरुष भगवान् श्रीकृष्ण का जन्म दिवस / जन्माष्टमी भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जाता है। कृष्ण के भक्त उनका जन्म दिवस सहस्त्रों वर्षों से मनाते आ रहे हैं। वर्तमान …

Read More »

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध Hindi Essay on Independence Day

स्वतंत्रता दिवस / 15 अगस्त पर निबंध [1] 15 अगस्त 1947 को भारत परतंत्रता के अन्धेरे से निकलकर स्वतंत्रता के प्रकाश में आया था। देश को स्वतंत्र कराना जितना कठिन कार्य है, उतना ही कविन कार्य उस स्वतंत्रता की रक्षा करना है। देश की शासन व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने …

Read More »

दुर्गा पूजा पर निबंध विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

दुर्गा पूजा

दुर्गा पूजा पर निबंध बंगाल के रहनेवालों तथा बंगाल संस्कृति में जितनी श्रद्धा-भक्ति की पात्र शक्ति, दश भुजा धारिणी, सिंहवाहिनी, महिषासुर मर्दिनी देवी दुर्गा हैं, उतना कोई अन्य देवी – देवता नहीं। देवी दुर्गा का ही एक रूप है – काली या काली माँ। बंगाल की अधिष्ठात्री देवी मानी जाती …

Read More »

मित्रता पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए निबंध

आदर्श विद्यार्थी पर निबंध Hindi Essay on Ideal Student

किसी अनुभवी व्यक्ति ने इस संसार को गोरख-धन्धा ठीक ही बताया है। जिस प्रकार पुरुष के भाग्य और स्त्री के चरित्र को समझना देवताओं तक के लिए कठिन है: “पुरुषस्य भाग्यं नारी चरित्रं देवो न जानाति कुतोः मनुष्यः” उसी प्रकार इस संसार की गति को समझना दुष्कर है। कविवर जायसी …

Read More »

मेरा प्रिय मित्र पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए निबंध

आदर्श विद्यार्थी पर निबंध Hindi Essay on Ideal Student

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। उसे जीवन में एक ऐसा साथी चाहिए जिससे वह अपने मन की बात कह सके, अपनी समस्या बताकर उससे परमर्श कर उसका समाधान खोज सके। अनुभव बताता है कि दुःख दोनों में लाभकारी होता है। जीवन-संगिनी तो जीवन-भर साथ देती ही है, सच्चा मित्र भी …

Read More »

मुंशी प्रेमचंद: मेरा प्रिय लेखक पर विद्यार्थियों के लिए निबंध

मेरा प्रिय लेखक: मुंशी प्रेमचंद

अजाबराय के पुत्र नवाबराय, जो बाद में मुंशी प्रेमचन्द के नाम से विख्यात हुए और जिनके विपुल कथा-साहित्य ने भारती के भण्डार को समृद्ध किया तथा उसे नयी दिशा दी का जन्म 31 जुलाई 1880 को बनारस से चार मील दूर लमही नामक गाँव में हुआ था। कायस्थ  परिवार की …

Read More »

भारत बांग्लादेश सम्बन्ध पर विद्यार्थियों के लिए हिंदी में निबंध

भारत-बांग्लादेश सम्बन्ध पर विद्यार्थियों के लिए हिंदी में निबंध

1971 से पूर्व बांग्लादेश का अस्तित्व ही नहीं था; आज हम जिसे बांग्लादेश कहते हैं, वह पूर्व पाकिस्तान कहलाता था। 1947 से पूर्व या कहें देश-विभाजन की त्रासदी से पहले वह भारत के एक प्रान्त बंगाल का हिस्सा था। 1947 में देश का विभाजन हुआ, पाकिस्तान बना, तो पूर्वी बंगाल …

Read More »

प्रदूषण पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए हिन्दी निबंध

Educate kids on pollution, worried DoE tells schools

यह पृथ्वी जीवों से है, जीवों की है जीवों के लिए है। इस पृथ्वी पर मनुष्य और पशुओं का समान अधिकार है। जब से मानव ने विज्ञान से हाथ मिलाया है तब से अनेक समस्याएं उत्पन्न हुईं। उनमें सबसे भयावह समस्या प्रदूषण की है। प्रदूषण का अर्थ है – दूषित …

Read More »

एक नहीं दो दो मात्राएँ, नर से बढ़कर नारी: हिंदी निबंध

Reaching the Age of Adolescence

राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त की इन पंक्तियों में कवि ने व्याकरण की दृष्टि से नारी को नर की तुलना में अधिक बड़ा बताया है। नर शब्द में दोनों अक्षरों ‘न’ तथा ‘र’ में एक-एक मात्रा है जबकि नारी शब्द के न तथा र दोनों में दीर्घ मात्राएँ हैं। ह्रस्व छोटी मात्रा …

Read More »