Wednesday , February 19 2020

Tag Archives: Essays in Hindi Language

भारत की बढ़ती जनसंख्या / बढ़ती आबादी: देश की बर्बादी

Reaching the Age of Adolescence

विश्व का इतिहास जनसंख्या वृद्धि का इतिहास है। प्रो. सांडर्स का मत है कि विश्व की जनसंख्या में प्रति वर्ष एक प्रतिशत की वृद्धि हो रही है और यदि इसी गति से वृद्धि होती रही तो एक दिन इस पृथ्वी पर रहने के लिए तो क्या खड़ा होने के लिए …

Read More »

भारत-अमेरिका सम्बन्ध पर विद्यार्थियों के लिए हिंदी निबंध

भारत-अमेरिका सम्बन्ध पर विद्य्राथियों और बच्चों के लिए निबंध

भारत और अमेरिका में अनेक समानताएँ हैं। दोनों में प्रजातंत्रात्मक शासन-व्यवस्था है। भारत और अमेरिका विश्व के सबसे बड़े दो जनतंत्र माने जाते हैं। दोनों में व्यक्ति-स्वातंत्र्य को  महत्त्व दिया जाता है, दोनों की अर्थ-नीति भी लगभग एक समान है। अमेरिका पूँजीवाद का समर्थक है, आज भारत भी समाजिक अर्थनीति …

Read More »

क्रान्तिदृष्टा संत कवि कबीर पर विद्य्राथियों और बच्चों के लिए निबंध

संत कवि कबीर

काव्य कवि के बाह्य और भीतरी परिवेश के सम्पर्क से गढ़ी गई कला है। चिन्तन और भावना द्वारा कवि अपने काव्य में समाज की अभिव्यक्ति करता है। साथी ही वह उसके सम्बन्ध में मानसिक एवं हार्दिक प्रतिक्रिया भी व्यक्त करता है। महात्मा कबीर का प्रादुर्भाव ऐसे संक्रान्ति-युग में हुआ जब …

Read More »

सुबह की सैर पर निबंध विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

Exercise

हमारे शास्त्र-ग्रन्थों में ब्रह्ममुहूर्त की महिमा का वर्णन किया गया है। हमारे ऋषि-मुनि ब्रह्ममुहूर्त में उठकर शौचादि से निवृत्त होकर पवित्र जल में स्नान कर ईश्वर का चिन्तन-मनन, यज्ञ, हवन आदि धार्मिक अनुष्ठान किया करते थे। वैद्य, डाक्टर, हकीम भी ब्रह्ममुहूर्त में उठकर व्यायाम करने का परामर्श देते हैं। अंग्रेजी …

Read More »

स्वास्थ्य ही सम्पत्ति है अथवा अच्छा स्वास्थ्य: महा वरदान – निबंध

Fitness

बहुप्रचलित कहावत है: पहला सुख निरोगी काया, दूसरा सुख घर में हो माया। अर्थात् जीवन को सुखी बनाने के लिए स्वस्थ शरीर और धन या सम्पत्ति आवश्यक हैं। इनमें भी धन की तुलना में स्वास्थ्य का महत्त्व अधिक है क्योंकि शरीर स्वस्थ होने पर ही हम जीवन में कुछ कर …

Read More »

आलस्य: सबसे बड़ा शत्रु पर हिंदी निबंध

Running

शरीरिक, मानसिक, तन-मन की उत्साहहीनता, कर्म न करने की प्रवत्ति, काम को टालने की आदत (दीर्घसूत्रता) को आलस्य कहते हैं। आलसी व्यक्ति परिश्रम से जी चुराता है, आराम से पड़े रहना चाहते है, अपना और दूसरों का अहित चाहने तथा करनेवाला शत्रु होता है। आलस्य सबसे बड़ा शत्रु क्यों है? …

Read More »

व्यायाम पर निबंध विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

Exercise

महाकवि कालिदास की उक्ति है – ‘शरीरामाध्यं खलु धर्म साधऐत्‘ अर्थात् स्वस्थ्य शरीर रहने पर ही प्रत्येक धर्म, प्रत्येक कर्तव्य पूरा किया जा सकता है। यदि शरीर स्वस्थ् नहीं है तो मन भी स्वस्थ नहीं रह पाता ‘Sound mind in healthy body‘, आर्यसमाज के प्रचारक अपने प्रवचनों में प्रायः कहते …

Read More »

महाराणा प्रताप पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए निबंध

महाराणा प्रताप

महाराणा प्रताप एक महान देशभक्त थे। वह केवल राजस्थान की ही गौरव और शान नहीं थे अपितु संपूर्ण भारतवर्ष को उन पर गर्व है। वह मेवाड़ के राजा थे। उनका जन्म 9 मई 1540 ई0 में सुप्रसिद्ध सिसोदिया परिवार में हुआ था। वह राणा उदय सिंह के सुपुत्र और राणा …

Read More »

पर्यावरण पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए निबंध

Environment

एक स्वच्छ वातावरण एक शांतिपूर्ण और स्वस्थ जीवन जीने के लिए बहुत आवश्यक है। लेकिन मनुष्य के लापरवाही से हमारा पर्यावरण दिन ब दिन गन्दा होता जा रहा है। यह एक मुद्दा है जिसके बारे में हर किसी को पता होना चाहिए खासकर के बच्चो को। हम कुछ निम्नलिखित निबंध …

Read More »

दहेज़ की समस्या पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए हिंदी निबंध

दहेज़ की समस्या

भारतीय संस्कृति में विवाह आठ संस्कारों में से एक संस्कार माना जाता गया है। हमारे पूर्वज इसके महत्त्व को भली-भाँती समझते थे। विवाह मानव जाती के अस्तित्व को अक्षुण्ण रखता है क्योंकि पति-पत्नी के संसर्ग से उत्पन्न संतान ही मानव जाती को नष्ट होने से बचाती है। वह स्त्री-पुरुष को …

Read More »