Sunday , September 23 2018
Home / Hindi Grammar / क्रिया: Verb – Hindi Grammar for Students and Children
हिंदी

क्रिया: Verb – Hindi Grammar for Students and Children

क्रिया (Verb) की परिभाषा

जिस शब्द से किसी काम का करना या होना समझा जाय, उसे क्रिया कहते है। जैसे: पढ़ना, खाना, पीना, जाना इत्यादि।

‘क्रिया’ का अर्थ होता है – करना। प्रत्येक भाषा के वाक्य में क्रिया का बहुत महत्त्व होता है। प्रत्येक वाक्य क्रिया से ही पूरा होता है। क्रिया किसी कार्य के करने या होने को दर्शाती है। क्रिया को करने वाला ‘कर्ता’ कहलाता है।

  • अली पुस्तक पढ़ रहा है।
  • बाहर बारिश हो रही है।
  • बाजार में बम फटा।
  • बच्चा पलंग से गिर गया।

उपर्युक्त वाक्यों में अली और बच्चा कर्ता हैं और उनके द्वारा जो कार्य किया जा रहा है या किया गया, वह क्रिया है; जैसे: पढ़ रहा है, गिर गया।

अन्य दो वाक्यों में क्रिया की नहीं गई है, बल्कि स्वतः हुई है। अतः इसमें कोई कर्ता प्रधान नहीं है।

वाक्य में क्रिया का इतना अधिक महत्त्व होता है कि कर्ता अथवा अन्य योजकों का प्रयोग न होने पर भी केवल क्रिया से ही वाक्य का अर्थ स्पष्ट हो जाता है; जैसे:

  1. पानी लाओ।
  2. चुपचाप बैठ जाओ।
  3. रुको।
  4. जाओ।

अतः कहा जा सकता है कि, जिन शब्दों से किसी काम के करने या होने का पता चले, उन्हें क्रिया कहते है।

क्रिया का मूल रूप ‘धातु’ कहलाता है। इनके साथ कुछ जोड़कर क्रिया के सामान्य रूप बनते हैं; जैसे:

धातु रूप सामान्य रूप
बोल, पढ़, घूम, लिख, गा, हँस, देख आदि। बोलना, पढ़ना, घूमना, लिखना, गाना, हँसना, देखना आदि।

मूल धातु में ‘ना’ प्रत्यय लगाने से क्रिया का सामान्य रूप बनता है।

क्रिया के भेद

रचना के आधार पर क्रिया के भेद

रचना के आधार पर क्रिया के चार भेद होते हैं:

  1. संयुक्त क्रिया (Compound Verb)
  2. नामधातु क्रिया (Nominal Verb)
  3. प्रेरणार्थक क्रिया (Causative Verb)
  4. पूर्वकालिक क्रिया (Absolutive Verb)

(1) संयुक्त क्रिया (Compound Verb)

जो क्रिया दो या दो से अधिक धातुओं के मेल से बनती है, उसे संयुक्त क्रिया कहते हैं। दूसरे शब्दों में – दो या दो से अधिक क्रियाएँ मिलकर जब किसी एक पूर्ण क्रिया का बोध कराती हैं, तो उन्हें संयुक्त क्रिया कहते हैं।

जैसे: बच्चा विद्यालय से लौट आया।
किशोर रोने लगा।
वह घर पहुँच गया।

उपर्युक्त वाक्यों में एक से अधिक क्रियाएँ हैं; जैसे- लौट, आया; रोने, लगा; पहुँच, गया। यहाँ ये सभी क्रियाएँ मिलकर एक ही कार्य पूर्ण कर रही हैं।
अतः ये संयुक्त क्रियाएँ हैं।

इस प्रकार, जिन वाक्यों की एक से अधिक क्रियाएँ मिलकर एक ही कार्य पूर्ण करती हैं, उन्हें संयुक्त क्रिया कहते हैं।

  • संयुक्त क्रिया में पहली क्रिया मुख्य क्रिया होती है तथा दूसरी क्रिया रंजक क्रिया।
  • रंजक क्रिया मुख्य क्रिया के साथ जुड़कर अर्थ में विशेषता लाती है;

जैसे: माता जी बाजार से आ गई।

इस वाक्य में ‘आ’ मुख्य क्रिया है तथा ‘गई’ रंजक क्रिया। दोनों क्रियाएँ मिलकर संयुक्त क्रिया ‘आना’ का अर्थ दर्शा रही हैं।

विधि और आज्ञा को छोड़कर सभी क्रियापद दो या अधिक क्रियाओं के योग से बनते हैं, किन्तु संयुक्त क्रियाएँ इनसे भित्र है, क्योंकि जहाँ एक ओर साधारण क्रियापद ‘हो’, ‘रो’, ‘सो’, ‘खा’ इत्यादि धातुओं से बनते है, वहाँ दूसरी ओर संयुक्त क्रियाएँ ‘होना’, ‘आना’, ‘जाना’, ‘रहना’, ‘रखना’, ‘उठाना’, ‘लेना’, ‘पाना’, ‘पड़ना’, ‘डालना’, ‘सकना’, ‘चुकना’, ‘लगना’, ‘करना’, ‘भेजना’, ‘चाहना’ इत्यादि क्रियाओं के योग से बनती हैं।

इसके अतिरिक्त, सकर्मक तथा अकर्मक दोनों प्रकार की संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं। जैसे:

अकर्मक क्रिया से – लेट जाना, गिर पड़ना।

सकर्मक क्रिया से – बेच लेना, काम करना, बुला लेना, मार देना।

संयुक्त क्रिया की एक विशेषता यह है कि उसकी पहली क्रिया प्रायः प्रधान होती है और दूसरी उसके अर्थ में विशेषता उत्पत्र करती है।

जैसे – मैं पढ़ सकता हूँ।

इसमें ‘सकना’ क्रिया ‘पढ़ना’ क्रिया के अर्थ में विशेषता उत्पत्र करती है। हिन्दी में संयुक्त क्रियाओं का प्रयोग अधिक होता है।

संयुक्त क्रिया के भेद

अर्थ के अनुसार संयुक्त क्रिया के 11 मुख्य भेद है:

  1. आरम्भबोधक – जिस संयुक्त क्रिया से क्रिया के आरम्भ होने का बोध होता है, उसे ‘आरम्भबोधक संयुक्त क्रिया’ कहते हैं।
    जैसे: वह पढ़ने लगा, पानी बरसने लगा, राम खेलने लगा।
  2. समाप्तिबोधक – जिस संयुक्त क्रिया से मुख्य क्रिया की पूर्णता, व्यापार की समाप्ति का बोध हो, वह ‘समाप्तिबोधक संयुक्त क्रिया’ है।जैसे: वह खा चुका है; वह पढ़ चुका है। धातु के आगे ‘चुकना’ जोड़ने से समाप्तिबोधक संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं।
  3. अवकाशबोधक – जिससे क्रिया को निष्पत्र करने के लिए अवकाश का बोध हो, वह ‘अवकाशबोधक संयुक्त क्रिया’ है।
    जैसे: वह मुश्किल से सोने पाया; जाने न पाया।
  4. अनुमतिबोधक – जिससे कार्य करने की अनुमति दिए जाने का बोध हो, वह ‘अनुमतिबोधक संयुक्त क्रिया’ है।
    जैसे: मुझे जाने दो; मुझे बोलने दो। यह क्रिया ‘देना’ धातु के योग से बनती है।
  5. नित्यताबोधक – जिससे कार्य की नित्यता, उसके बन्द न होने का भाव प्रकट हो, वह ‘नित्यताबोधक संयुक्त क्रिया’ है।
    जैसे: हवा चल रही है; पेड़ बढ़ता गया; तोता पढ़ता रहा। मुख्य क्रिया के आगे ‘जाना’ या ‘रहना’ जोड़ने से नित्यताबोधक संयुक्त क्रिया बनती है।
  6. आवश्यकताबोधक – जिससे कार्य की आवश्यकता या कर्तव्य का बोध हो, वह ‘आवश्यकताबोधक संयुक्त क्रिया’ है।
    जैसे: यह काम मुझे करना पड़ता है; तुम्हें यह काम करना चाहिए। साधारण क्रिया के साथ ‘पड़ना’ ‘होना’ या ‘चाहिए’ क्रियाओं को जोड़ने से आवश्यकताबोधक संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं।
  7. निश्र्चयबोधक – जिस संयुक्त क्रिया से मुख्य क्रिया के व्यापार की निश्र्चयता का बोध हो, उसे ‘निश्र्चयबोधक संयुक्त क्रिया’ कहते है।जैसे: वह बीच ही में बोल उठा; उसने कहा- मैं मार बैठूँगा, वह गिर पड़ा; अब दे ही डालो। इस प्रकार की क्रियाओं में पूर्णता और नित्यता का भाव वर्तमान है।
  8. इच्छाबोधक – इससे क्रिया के करने की इच्छा प्रकट होती है।
    जैसे: वह घर आना चाहता है; मैं खाना चाहता हूँ। क्रिया के साधारण रूप में ‘चाहना’ क्रिया जोड़ने से इच्छाबोधक संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं।
  9. अभ्यासबोधक – इससे क्रिया के करने के अभ्यास का बोध होता है। सामान्य भूतकाल की क्रिया में ‘करना’ क्रिया लगाने से अभ्यासबोधक संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं।
    जैसे: यह पढ़ा करता है; तुम लिखा करते हो; मैं खेला करता हूँ।
  10. शक्तिबोधक – इससे कार्य करने की शक्ति का बोध होता है।
    जैसे: मैं चल सकता हूँ, वह बोल सकता है। इसमें ‘सकना’ क्रिया जोड़ी जाती है।
  11. पुनरुक्त संयुक्त क्रिया – जब दो समानार्थक अथवा समान ध्वनिवाली क्रियाओं का संयोग होता है, तब उन्हें ‘पुनरुक्त संयुक्त क्रिया’ कहते हैं। जैसे: वह पढ़ा-लिखा करता है; वह यहाँ प्रायः आया-जाया करता है; पड़ोसियों से बराबर मिलते-जुलते रहो।

(2) नामधातु क्रिया (Nominal Verb)

संज्ञा अथवा विशेषण के साथ क्रिया जोड़ने से जो संयुक्त क्रिया बनती है, उसे ‘नामधातु क्रिया’ कहते हैं।

जैसे: लुटेरों ने जमीन हथिया ली। हमें गरीबों को अपनाना चाहिए। उपर्युक्त वाक्यों में हथियाना तथा अपनाना क्रियाएँ हैं और ये ‘हाथ’ संज्ञा तथा ‘अपना’ सर्वनाम से बनी हैं। अतः ये नामधातु क्रियाएँ हैं। इस प्रकार, जो क्रियाएँ संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण तथा अनुकरणवाची शब्दों से बनती हैं, वे नामधातु क्रिया कहलाती हैं। संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण तथा अनुकरणवाची शब्दों से निर्मित कुछ नामधातु क्रियाएँ इस प्रकार हैं:

संज्ञा शब्द नामधातु क्रिया
शर्म शर्माना
लोभ लुभाना
बात बतियाना
झूठ झुठलाना
लात लतियाना
दुख दुखाना
सर्वनाम शब्द नामधातु क्रिया
अपना अपनाना
विशेषण शब्द नामधातु क्रिया
साठ सठियाना
तोतला तुतलाना
नरम नरमाना
गरम गरमाना
लज्जा लजाना
लालच ललचाना
फ़िल्म फिल्माना
अनुकरणवाची शब्द नामधातु क्रिया
थप-थप थपथपाना
थर-थर थरथराना
कँप-कँप कँपकँपाना
टन-टन टनटनाना
बड़-बड़ बड़बड़ाना
खट-खट खटखटाना
घर-घर घरघराना

द्रष्टव्य – नामबोधक क्रियाएँ संयुक्त क्रियाएँ नहीं हैं। संयुक्त क्रियाएँ दो क्रियाओं के योग से बनती है और नामबोधक क्रियाएँ संज्ञा अथवा विशेषण के मेल से बनती है। दोनों में यही अन्तर है।

Check Also

Hindi Grammar

उपसर्ग: Prefix – Hindi Grammar for Students and Children

उपसर्ग – प्रत्यय शब्द दो प्रकार के होते है – मूल और व्युतपन्न यानी बनाए ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *