Tuesday , May 26 2020

Essays

प्रदूषण पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए हिन्दी निबंध

Educate kids on pollution, worried DoE tells schools

यह पृथ्वी जीवों से है, जीवों की है जीवों के लिए है। इस पृथ्वी पर मनुष्य और पशुओं का समान अधिकार है। जब से मानव ने विज्ञान से हाथ मिलाया है तब से अनेक समस्याएं उत्पन्न हुईं। उनमें सबसे भयावह समस्या प्रदूषण की है। प्रदूषण का अर्थ है – दूषित …

Read More »

एक नहीं दो दो मात्राएँ, नर से बढ़कर नारी: हिंदी निबंध

Reaching the Age of Adolescence

राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त की इन पंक्तियों में कवि ने व्याकरण की दृष्टि से नारी को नर की तुलना में अधिक बड़ा बताया है। नर शब्द में दोनों अक्षरों ‘न’ तथा ‘र’ में एक-एक मात्रा है जबकि नारी शब्द के न तथा र दोनों में दीर्घ मात्राएँ हैं। ह्रस्व छोटी मात्रा …

Read More »

नारी का आभूषण सौन्दर्य नहीं, सौम्य गुण है: हिंदी निबंध

Sarees of Kanchipuram

मनुष्य स्वभाव से सौन्दर्य-प्रेमी होता है। पुरुष और नारी दोनों चाहते हैं कि उनका रूप-रंग, व्यक्तित्व दूसरों को मोहने वाला हो, उनके सम्पर्क में आनेवाले उनके प्रति आकर्षण अनुभव करें। अपनी इस इच्छा की पूर्ति के लिए जिन उपायों का आश्रय लेते हैं उनमें एक है साज-सज्जा, श्रृंगार और अलंकरण। …

Read More »

कश्मीर समस्या पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए निबंध

कश्मीर समस्या पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए निबंध

आज की कश्मीर समस्या को जानने और समझने के लिए हमें इतिहास में कुछ पीछे जाना होगा। 1947 में जब गांधी जी के ‘भारत छोड़ो आन्दोलन’, नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की आजाद हिन्द फौज की स्थापना तथा अंतर्राष्ट्रीय परिस्थितियों ने ब्रिटिश शासन को बाध्य कर दिया कि वे भारत को …

Read More »

मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर करना: विद्यार्थियों के लिए हिंदी निबंध

मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर करना: विद्यार्थियों के लिए हिंदी निबंध

मजहब उर्दू का शब्द है जिसका हिंदी पर्याय है धर्म। हमारे यहाँ धर्म की परिभाषा की गई है जो धारण करता है वह धर्म है। धारण करने से तात्पर्य है सहारा देना, रक्षा करना। धर्मशास्त्रों, नितिग्रन्थों में जो जीवन जीने का मार्ग, नीति-नियम बनाये गये हैं, आत्मा को, मन को …

Read More »

भारत और साम्प्रदायिकता की समस्या पर निबंध

भारत और साम्प्रदायिकता की समस्या पर विद्यार्थियों के लिए निबंध

सम्प्रदाय का सामान्य अर्थ है एक ऐसा वर्ग, जन-समूह जिसका रहन-सहन, जीवन-पद्धति, धार्मिक विश्वास, पूजा-अर्चना की पद्धति, रीति-रिवाज एक समान हों। सम्प्रदाय का मुख्य आधार है धार्मिक विश्वास, आस्था, पूजा-उपासना की पद्धति। हिन्दू भगवान के विभिन्न रूपों देवी-देवताओं में विश्वास रखते हैं, मूर्ति-पूजक हैं। मुसलमान एक ईश्वर में आस्था रखते …

Read More »

वृक्ष की आत्मकथा पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए निबंध

Equatorial Forest Region

संस्कृत और हिन्दी के अनेक सुभाषितों में परोपकार की महिमा गयी है – ‘परोपकाराय सत्तां विभूतयः‘,’पर हित सरिस धर्म नहिं भाई‘ ऐसी ही उक्तियाँ हैं। इनमें कहा गया है कि नदियाँ अपना जल नहीं पीतीं, दूसरों की प्यास बुझाती हैं, रत्नगर्भा पृथ्वी अपने रत्न और अन्य धातुएँ दूसरों के उपयोग …

Read More »