Tuesday , January 21 2020
Home / Essays / Essays in Hindi (page 4)

Essays in Hindi

अणु बम की भयावहता एवं भारत की परमाणु नीति

भारत की परमाणु नीति

द्वितीय महायुद्ध के अन्तिम चरण में सन् 1945 में अमेरिका द्वारा जापान के नगरों हिरोशिमा और नागासाकी पर अणु बम गिराने से जो वहाँ की दुर्दशा हुई, उससे अणु बम के विनाशकारी प्रभाव का, मानव जाती के समाप्त होने का खतरा जगजाहिर हो गया। उस दुर्घटना के कारण हजारों लोग …

Read More »

भारत की विदेश नीति पर हिंदी निबंध

India

यातायात के साधनों और संचार-सुविधाओं के परिणामस्वरूप अब विश्व के विभिन्न देशों और राष्ट्रों के बीच की दूरियाँ बहुत कम हो गयी हैं। राजनितिक, औद्योगिक, आर्थिक आदि कारणों से भी विभिन्न देशों का एक दूसरे के निकट आना, परस्पर सहयोग के मार्ग पर चलना आवश्यक हो गया है। प्रत्येक स्वतंत्र …

Read More »

प्रजातंत्र बनाम तानाशाही पर हिंदी निबंध

Democracy

प्रजातंत्र और तानाशाही एक दूसरे की विरोधी अवधारणाएँ हैं; उनका सम्बन्ध 3 और 6 का है। उनकी संरचना, उनका उद्देश्य, उनकी कार्यप्रणाली, कार्यकलाप सर्वथा विपरीत होते हैं। प्रजातंत्र को लोकतंत्र, गनतंत्र, जनतंत्र भी कहा जाता हैं। इसी प्रकार तानाशाही का दूसरी नाम है एकतंत्र। लोकतंत्र या प्रजातंत्र में जनता अपने …

Read More »

गणतंत्र दिवस: 26 जनवरी पर हिंदी निबंध

India

भारत की भूमि पर अनेक धार्मिक और सांस्कृतिक त्यौहार मनाए जाते हैं। लेकिन कुछ पर्व ऐसे होते हैं जिनका सम्बन्ध सम्पूर्ण राष्ट्र और वहाँ के निवासियों से होता है। ऐसे राष्ट्रीय पर्व हैं -स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस।15 अगस्त 1947 को भारत मात्र स्वतंत्र हुआ था, क्योंकि अंग्रेजी सरकार के …

Read More »

जनतंत्र शासन-प्रणाली: गुण और दोष पर निबंध

Democracy

विश्व का राजनितिक इतिहास बताता है कि संसार के विभिन्न देशों में भिन्न-भिन्न कालों में शासन की अनेक प्रणालियाँ प्रचलित रही हैं। सबसे प्राचीन प्रणाली राजतंत्र है जिसके अन्तर्गत राजा प्रजा पर राज्य करता था। वह अपने मंत्रियों की सहायता से राज्य-कार्य करता था तथा सेना और सेनापतियों के बाहुबल, …

Read More »

विश्व शान्ति और भारत पर हिंदी निबंध

Peace

भारत की जलवायु, भूगोल, प्राकृतिक परिवेश, यहाँ की उर्वरा भूमि, स्वच्छ जल के सरोवर और नदियाँ, वन तथा पर्वतों ने यहाँ के रहनेवालों को आत्म-निरक्षण, आत्म-चिंतन, मनन, ध्यान, योग-साधना के लिए अवसर प्रदान किया। धन-धान्य, खद्यान्न से सम्पन्न यहाँ के निवासी आत्म-निर्भर थे। अध्यात्म-चिंतन ने उन्हें आत्म-संतोष, अपरिग्रह का पाठ …

Read More »

गुरु गोविंद सिंह पर निबंध विद्यार्थियों के लिए

गुरु गोविंद सिंह पर निबंध विद्यार्थियों के लिए

सिक्खों के दसवें धार्मिक गुरु तथा खालसा के संस्थापक गुरु गोविंद सिंह एक महान तेजस्वी और शूरवीर नेता थे। सन् 1699 में बैशाखी के दिन उन्होने खालसा पन्थ की स्थापना की, जो सिक्खों के इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है। विचित्र नाटक को उनकी आत्मकथा माना जाता है।यही उनके जीवन …

Read More »

स्वामी विवेकानंद पर निबंध विद्यार्थियों के लिए

Swami Vivekananda

भारत वर्ष में नवजागरण का शंखनाद करने वाले महापुरुषों में स्वामी विवेकानंद का अद्वितीय स्थान है। स्वामी जी का जन्म 1863 ईस्वी में हुआ उनका जन्म नाम नरेन्द्रनाथ था। स्वामी जी बचपन से ही कुशाग्र बुद्धि और उच्च विचार सम्पन्न थे। उनकी प्रारम्भिक शिक्षा अंग्रेजी माध्यम से हुई। सन् 1884 …

Read More »

शिक्षा का माध्यम पर हिन्दी निबंध

आदर्श विद्यार्थी पर निबंध Hindi Essay on Ideal Student

शिक्षा के माध्यम से तात्पर्य है वह भाषा जिसमें शिक्षार्थी को शिक्षा दी जाये, जिसमें लिखी हुई पुस्तकों का अध्ययन उसे करना पड़े। शिक्षा का आरम्भ बचपन से ही हो जाता है। पाँच – छः वर्ष की आयु का बालक नर्सरी स्कूल या प्राथमिक पाठशाला में जाने लगता है। ब्रिटिश …

Read More »

बसन्त पंचमी पर हिन्दी निबंध विद्यार्थियों के लिए

बसन्त पंचमी पर हिन्दी निबंध विद्यार्थियों के लिए

भारत कृषिप्रधान देश है। यह प्राकृतिक शोभा का भंडार है। यहाँ जितने प्रकार के वृक्ष, पौधे, लता, गुल्म, फल-फूल उगते हैं अन्य किसी देश में नहीं होते। यहाँ छः ऋतुएँ – ग्रीष्म, वर्षा, शरद, शिशिर, हेमन्त और वसन्त होती हैं। इन सबमें बसन्त को ऋतुराज कहा गया है। इसके दो …

Read More »