Saturday , December 15 2018
Home / Essays

Essays

लोहड़ी पर हिन्दी निबंध विद्यार्थियों के लिए

लोहड़ी पर हिन्दी निबंध विद्यार्थियों के लिए

बैशाखी के समान लोहड़ी भी मुख्यतः पंजाब, हरियाणा और अब दिल्ली में मनाया जानेवाला त्यौहार है। इस त्यौहार का संबंध भी मौसम और फसल से है। पंजाब के रहनेवाले तथा पंजाबी सभ्यता-संस्कृति के माननेवाले विश्व के किसी भी भाग में रहते हों, इस त्यौहार को परम्परागत रीती और हर्षोल्लास से ...

Read More »

बसन्त पंचमी पर हिन्दी निबंध विद्यार्थियों के लिए

बसन्त पंचमी पर हिन्दी निबंध विद्यार्थियों के लिए

भारत कृषिप्रधान देश है। यह प्राकृतिक शोभा का भंडार है। यहाँ जितने प्रकार के वृक्ष, पौधे, लता, गुल्म, फल-फूल उगते हैं अन्य किसी देश में नहीं होते। यहाँ छः ऋतुएँ – ग्रीष्म, वर्षा, शरद, शिशिर, हेमन्त और वसन्त होती हैं। इन सबमें बसन्त को ऋतुराज कहा गया है। इसके दो ...

Read More »

मकर संक्रांति पर हिन्दी निबंध विद्यार्थियों के लिए

मकर संक्रांति पर हिन्दी निबंध विद्यार्थियों के लिए

भारतवर्ष में मनाये जानेवाले त्यौहारों के तीन आधार हैं- धार्मिक-अध्यात्मिक, ऋतुएँ और फसल तथा स्वस्थ-सुखी जीवन बिताने की प्रवृत्ति। मानव जीवन में वही व्यक्ति सुखी रह सकता है जिसका शरीर स्वस्थ हो और मन पवित्र, आत्मा शुद्ध हो। जब मनुष्य का अंतःकरण शुद्ध तथा शरीर स्वस्थ रहेगा तभी वह आनन्द ...

Read More »

एड्स पर निबंध विद्यार्थियों के लिए

HIV/AIDS Essay

एड्‌स ‘एक्वायर्ड इम्यून डेफिसिएन्सी सिंड्रोम’ का संक्षिप्त नाम है। यह एक असाध्य बीमारी है, जिसे पिछली सदी के अस्सी के दशक के पूर्व कोई भी नहीं जानता था। इस बीमारी का आभास सर्वप्रथम 1981 ई. में अमेरिका में हुआ, जब पाँच समलिंगी पुरुषों में इस अनोखी बीमारी के लक्षण पाए ...

Read More »

राष्ट्रीय एकता पर निबंध विद्यार्थियों के लिए

राष्ट्रीय एकता

एक देश में रह रहे लोगों के बीच एकता की शक्ति के बारे में लोगों को जागरुक बनाने के लिये ‘राष्ट्रीय एकता’ एक तरीका है। अलग संस्कृति, नस्ल, जाति और धर्म के लोगों के बीच समानता लाने के द्वारा राष्ट्रीय एकता की जरुरत के बारे में ये लोगों को जागरुक बनाता है। ...

Read More »

राष्ट्रीय एकता: महत्व और आवश्यकता पर निबंध

राष्ट्रीय एकता

देश और राष्ट्र में अन्तर न पाने के परिणामस्वरूप प्रायः देश और राष्ट्र को एक मन लिया जाता है। इस भ्रम का कारण यह भी है कि विश्व के अनेक देश भौगोलिक क्षेत्रफल की दृष्टि से छोटे हैं और उनके रहनेवालों की जाती, सभ्यता, संस्कृति एक हैं। उनके निवासियों में  ...

Read More »